Make Money Online

इक्विटी म्यूचुअल फंड में सितंबर तिमाही में आया करीब 40,000 करोड़ रुपये का निवेश, जानिए डिटेल


Mutual Fund Investment: इक्विटी म्यूचुअल फंड में सितंबर में समाप्त तिमाही के दौरान शुद्ध रूप से करीब 40,000 करोड़ रुपये का निवेश आया है. नई कोष पेशकशों (एनएफओ) में मजबूत प्रवाह तथा सिस्टैमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (सिप) में स्थिरता के बीच इक्विटी कोषों को तिमाही के दौरान अच्छा निवेश मिला है.

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों के अनुसार, इस प्रवाह के साथ इक्विटी म्यूचुअल फंड के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां सितंबर के अंत तक बढ़कर 12.8 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गईं. जून के अंत तक यह 11.1 लाख करोड़ रुपये थीं.

मार्च से इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश लगातार बढ़ रहा है 
आंकड़ों के अनुसार, सितंबर तिमाही में इक्विटी कोषों में 39,927 करोड़ रुपये का निवेश आया. जून तिमाही में यह आंकड़ा 19,508 करोड़ रुपये रहा था. मार्च से इक्विटी म्यूचुअल फंड में प्रवाह लगातार बढ़ रहा है. इससे पहले जुलाई, 2020 से फरवरी, 2021 तक लगातार आठ माह इन कोषों से निकासी हुई थी.

यह भी पढ़ें- Gold का आउटलुक बुलिश, दिसंबर 2021 तक लगा सकता है ऑल टाइम हाई, जाने क्यों

हेम सिक्योरिटीज के प्रमुख-पीएमएस मोहित निगम ने कहा, ‘‘इक्विटी कोषों में सतत प्रवाह से भारतीय शेयर बाजारों के प्रति निवेशकों की सकारात्मक धारणा का पता चलता है. अर्थव्यवस्था में सुधार, कंपनियों के महामारी की बाधाओं से उबरने तथा सरकार के समर्थन वाले रुख से अर्थव्यवस्था तेजी से पुनरुद्धार की राह पर है.’’

प्रमुख योगदान एनएफओ का 
म्यूचुअल फंड विशेषज्ञों का कहना है कि इक्विटी में आए शुद्ध प्रवाह में प्रमुख योगदान एनएफओ का है. संपत्ति प्रबंधन कंपनियां (एएमसी) भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के योजना वर्गीकरण नियमों के तहत अपनी पेशकशों को पूरा करने का प्रयास कर रही हैं.

SIP से निवेश 
एसआईपी रूट के जरिए निवेश सितंबर तिमाही में बढ़कर 29,883 करोड़ रुपये हो गया, जो जून तिमाही में 26,571 करोड़ रुपये था. इसके अलावा, एसआईपी में मासिक योगदान सितंबर में बढ़कर 10,351 करोड़ रुपये हो गया, जो अप्रैल में 8,596 करोड़ रुपये था. एसआईपी के मोर्चे पर अच्छी खबर सितंबर में मासिक इनपुट मूल्य 10,000 करोड़ रुपये को पार करने के साथ जारी है. यह खुशी की बात है क्योंकि यह एसआईपी बुक के 8,000 करोड़ रुपये से एक साल पहले सिकुड़कर एक महत्वपूर्ण छलांग है.

फ्लेक्सी-कैप सेगमेंट में सबसे अधिक निवेश 
इक्विटी फंडों की श्रेणियों के भीतर, फ्लेक्सी-कैप सेगमेंट में सबसे अधिक 18,258 करोड़ रुपये का नेट निवेश देखा गया. इसके बाद सेक्टोरल फंड्स में 10,232 करोड़ रुपये का निवेश आया और 4,197 करोड़ रुपये को आकर्षित करने वाले फंडों पर ध्यान केंद्रित किया गया. इसके अलावा, मल्टी-कैप और मिड-कैप फंडों में क्रमशः 3,716 करोड़ रुपये और 3,000 करोड़ रुपये का शुद्ध प्रवाह आया.

Tags: Investment, Investment and return, Investment tips, Mutual fund, Mutual fund investors, Mutual funds, Returns of mutual fund SIPs, Systematic Investment Plan (SIP)



Source link

Share your feedback here