Make Money Online

बंद होने वाले हैं Facebook और Instagram! आखिर कंपनी ने क्यों लिया यह फैसला, यहां मिलेगा हर जवाब


नई दिल्ली। पिछले साल अक्टूबर में Facebook ने अपना नाम चेंज किया था जिसे अब META नाम दिया गया है। META के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने नाम में बदलाव करते हुए कहा था कि अब Facebook को केवल इसी नाम से नहीं जाना जाएगा बल्कि इसे अब METAवर्स के रूप में जाना जाएगा। लेकिन दुनिया को शायद यह पसंद नहीं आया है। जाहिर-सी बात है कि जहां हम सभी शुरू से इसे Facebook कहते आए हैं वहीं, अब Facebook की जगह META को अपनाना मुश्किल लग रहा है। इस नए नाम को लेकर अलग ही विवाद चल रहा है।

बंद हो जाएंगे Facebook और Instagram:META का कहना है कि अगर उसे दूसरे देशों के साथ यूरोपियन यूजर्स का डाटा शेयर करने नहीं दिया जाता है तो उसे अपनी सर्विसेज देना यहां बंद करना होगा। साथ ही यह भी कहा कि अगर ऐसा न करने दिया जाए तो META की सर्विसेज प्रभावित होती हैं। क्योंकि इसी डाटा के आधार पर कंपनी यूजर्स को विज्ञापन दिखाती है।

META का कहना है कि वर्ष 2022 में जो नई शर्तें लागू की गई हैं उन्हें वह स्वीकार करेगा। लेकिन अगर उसे डाटा ट्रांसफर की अनुमति नहीं दी जाती है तो उसे यूरोप में अपनी Facebook, इंस्टाग्राम जैसी सर्विसेज को बंद कर देगा। ऐसे में उसे डाटा ट्रांसफर की अनुमति नहीं दी जाएगी तो उसे यह कदम उठाना पड़ेगा।

META ने सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन को बताया है कि अगर नया फ्रेमवर्क लागू नया किया जाता है तो उसे यह कदम उठाना पड़ेगा। यूरोपियन यूनियन के कानून के मुताबिक, यूजर्स का डाटा यूरोप में ही रहना चाहिए। लेकिन META ने मांग रखी है जो यूजर्स का डाटा शेयर करने की अनुमित मांग रहा है। कंपनी चाहती है कि यूरोपियन यूजर्स का डाटा अमेरिकन सर्वर पर स्टोर किया जाए।

पहले की बात करें तो Privacy Shield कानून के तहत यूरोपीय डाटा को अमेरिकी सर्वर के साथ शेयर किया जाता था। लेकिन जुलाई 2020 में इस कानून को खतम कर दिया गया था। इसे यूरोपीय कोर्ट ने खत्म किया था। ऐसे में अगर META की बात करें तो यूरोपीय यूजर्स का डाटा अमेरिकी सर्वर पर स्टोर करने के लिए अब कंपनी Standard Contractual Clauses का उपयोग कर रही है। हालांकि, इसके लिए भी यूरोप में जांच चल रही है।



Source link

Share your feedback here