Make Money Online

Business idea: काली मिर्च के कारोबार से कमा सकते हैं लाखों, इस खेती के बारे में विस्तार से जानिए


Business idea: कोरोनाकाल के बाद खुद के बिजनेस का ट्रेंड तेजी से बढ़ा है. खासतौर से एग्री बिजनेस काफी पापुलर हुआ है. इसी कड़ी में काली मिर्च का बिजनेस भी कम निवेश के साथ ज्यादा रिटर्न के लिए बेहतर विकल्प है. आइए बात करते हैं एक ऐसे किसान की कहानी, जिसने काली मिर्च की खेती के लिए 10 हजार रु खर्च किए और उनकी कमाई लाखों रु है.

इस किसान की कहानी उत्तर पूर्व भारत में मेघालय राज्य से संबंधित है. वे काली मिर्च की खेती से भी लाखों की कमाई करते हैं. खेती के मामले में लीक से हटकर सोचने के लिए उन्हें पद्मश्री से भी नवाजा गया था. इस समय मेघालय में नये कृषि प्रयोग किए जा रहे हैं. यह कृषि प्रधान राज्य है. इस राज्य के अधिकांश किसान जड़ी-बूटियों और मसालों की खेती करते हैं.

पांच एकड़ भूमि पर काली मिर्च की खेती 
5 एकड़ में खेती इस किसान का नाम नानाडो बी मारक है और वह मेघालय में रहते हैं. उनकी वर्तमान आयु 61 वर्ष है और वह पांच एकड़ भूमि पर काली मिर्च की खेती करते हैं. खास बात यह है कि वह अपनी खेती में सिर्फ जैविक खाद का ही इस्तेमाल करते हैं. उनका दावा है कि शुरुआत में उन्होंने अपने खेत में ‘कारी मुंडा’ नामक काली मिर्च की किस्म उगाई थी. यह मध्यम आकार की किस्म है. नानाडो का दावा है कि उन्होंने सिर्फ दस हजार रुपये से काली मिर्च उगाना शुरू किया और अब लाखों कमाते हैं.

यह भी पढ़ें- देश में थोक महंगाई 12 साल के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची! जानें क्या है वजह और कब मिलेगी राहत?

जैविक खेती से फायदा
नानाडो बी मारक ने बाद में जैविक खेती करने का फैसला किया ताकि कीटनाशक मुक्त उत्पाद लोगों की थाली तक पहुंच सके और उनका स्वास्थ्य कभी खतरे में न पड़े. नतीजतन, उनकी काली मिर्च की घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी मांग है. मेघालय में, जहां नानाडो कृषि करते हैं, वहां घने जंगल मौजूद हैं. जब उन्होंने कृषि शुरू करने का प्रयास किया, तो जंगल उनके रास्ते में आ गए. उन्होंने जंगल के पेड़ों को काटने से इनकार कर दिया क्योंकि इससे पर्यावरण को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचता है.

पद्म श्री सम्मान मिला 
मिली सरकारी मदद नानाडो कोई साधारण किसान नहीं है. तकनीक के साथ-साथ वह हर संभव तरीके से सरकारी सहायता लेना पसंद करते हैं. अच्छी बात यह है कि वह अब खेती में अपने जिले के सभी छोटे किसानों की भी मदद करते हैं. परिणामस्वरूप, अतिरिक्त किसान जैविक खेती की ओर जा रहे हैं जो अच्छी बात है. पद्म श्री भारत के सर्वोच्च सम्मानों में से एक है. भारत सरकार नानाडो को इससे सम्मानित किया है.

यह भी पढ़ें- क्यों आया है Income Tax का नोटिस? जानिए कैसे दिया जा सकता है इसका जवाब

काम को सरकार भी ने भी सराहा 
19 लाख रु कमाए जैविक खेती के प्रति उनकी प्रतिबद्धता की सरकार ने भी सराहना की. इस सम्मान से वे अन्य किसानों के लिए प्रोत्साहन का स्रोत रहे हैं. आपको बता दें कि साल 2019 में नानाडो बी मारक ने अपनी जमीन में लगाई गई काली मिर्च की बिक्री से 19 लाख से ज्यादा की कमाई की थी. नानाडो के अनुसार उर्वरक का उपयोग पौधों को ऊर्जा प्रदान करने के लिए किया जाता है. नतीजतन, पौधे में लगातार उच्च गुणवत्ता वाली खाद डाली जानी चाहिए. प्रत्येक काली मिर्च के पौधे के लिए 10-20 किलो खाद की आवश्यकता होती है. गाय के गोबर या वर्मी कम्पोस्ट खाद का उपयोग किया जा सकता है.

मशीनों से काम आसान हुआ 
ऐसे तैयार होती है काली मिर्च काली मिर्च की फली की कटाई के लिए मशीन अब बेहतरीन विकल्प है. मशीन में फलियों को अधिक तेजी से और प्रभावी ढंग से तोड़ने की क्षमता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब पहली बार कटाई की जाती है तो फलियों में 70% नमी बनी रहती है. उसके बाद उन्हें सुखाया जाता है और हटा दिया जाता है. यह संभव है कि अगर काली मिर्च को सुखाया नहीं गया तो वह जल्दी खराब हो जाएगी. नतीजतन, इसे ठीक से सूखना महत्वपूर्ण है.

Tags: Business, Business ideas, Business news, Business opportunities, Earn money, Food business



Source link

Share your feedback here