Life Style

शनि करने जा रहे हैं नक्षत्र परिवर्तन, श्रवण नक्षत्र से अब धनिष्ठा नक्षत्र में करेंगे गोचर

Loading...


Loading...

Saturn Nakshatra Transit in 2022 : ज्योतिष शास्त्र में शनि का राशि परिवर्तन और नक्षत्र परिवर्तन महत्वपूर्ण माना गया है. शनि की चाल बेहद धीमी मानी गई है. शनि एक राशि से दूसरी राशि में जानें पर लगभग ढ़ाई वर्ष का समय लेते हैं. वर्ष 2022 में शनि का राशि परिवर्तन भी है. लेकिन इससे पहले शनि देव नक्षत्र परिवर्तन करने जा रहे हैं.

शनि नक्षत्र परिवर्तन 2022 (Shani Nakshatra Transit 2022)
पंचांग के अनुसार शनि वर्तमान समय में श्रवण नक्षत्र में गोचर कर रहे हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार श्रवण नक्षत्र में शनि देव का गोचर बीते 22 जनवरी 2021 को आए थे. शनि देव श्रवण नक्षत्र में 18 फरवरी 2022 तक रहेंगे. 18 फरवरी से शनि धनिष्ठा नक्षत्र में गोचर करेंगे. जहां पर शनि अगले वर्ष यानि वर्ष 15 मार्च 2023 तक रहेंगे.

Loading...

धनिष्ठा नक्षत्र (Dhanishtha Nakshtra)
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार धनिष्ठा नक्षत्र 4 तारों का समूह, ढोल या मृदंग की आकृति जैसा प्रतीत होता है. देखा जाए तो दोनों वाद्य यंत्र भीतर से खोखले होते हैं, यहां खोखले का अर्थ है अहंकार का न होना. तथा इनके चमड़े के बाहरी आवरण पर थाप पड़ने से ध्वनि उत्पन्न होती है. भजन कीर्तन में मृदंग व ढोल का प्रयोग किया जाता रहा है. प्राचीन भारत में धनिष्ठा को श्रविष्ठा कहते थे. धनिष्ठा का अर्थ होता है धन संपदा से पूर्ण. यह नक्षत्र मकर राशि और कुंभ राशि को जोड़ने वाला नक्षत्र है, इसलिए जिन लोगों की मकर और कुंभ राशि है, उन लोगों का धनिष्ठा नक्षत्र हो सकता है.

शनि राशि परिवर्तन 2022 (Shani Transit 2022)
पंचांग के अनुसार 29 अप्रैल 2022 को शनि राशि परिवर्तन करेंगे.  इस दिन शनि मकर राशि से कुंभ राशि में गोचर करेंगे. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंभ राशि के स्वामी शनि देव ही हैं. शनि जब अशुभ हों तो व्यक्ति को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. इसके साथ ही साढ़ेसाती और शनि की ढैय्या के दौरान भी व्यक्ति को सावधान रहना चाहिए गलत कार्यों को करने से बचना चाहिए. मंगलवार और शनिवार के दिन शनि देव की पूजा करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं.

Loading...

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Astrology : क्रोध पर काबू नहीं कर पाते हैं जिनकी होती है ‘राशि’, इस आदत के कारण उठानी पड़ती हैं बड़ी परेशानियां

Loading...

Baital Pachisi : बैताल ने पूछा पापी कौन? तो विक्रम ने दिया ये उत्तर

Shani Dev : 5 फरवरी को ‘सिद्ध’ योग में करें शनि देव की पूजा, इन 5 राशियों को मिलेगी विशेष राहत

Loading...



Source link

Loading...
Loading...

Share your feedback here