Health

क्या आपका बच्चा भी रात में सोते हुए चीखकर रोने लगता है? हो सकता है नाइट टैरर का शिकार

Loading...


Loading...

Night Terror In Children: कुछ बच्चे रात में अचानक से सोते हुए रोने लगते हैं या बहुत तेज डर जाते हैं. बच्चे के ऐसा करने से मां-बाप (Parents) परेशान होने लगते हैं. उन्हें लगता है कि शायद बच्चे ने कोई बुरा सपना या डरावनी चीज देखी होगी, जिससे बच्चा (Kids) रात को नींद से एकाएक जाग गया है. कई बच्चे तो इस कदर डर जाते हैं कि चिल्लाने लगते और डर से कांपने लग जाते हैं. इससे बच्चों के अंदर डर बैठ जाता है और वो रात में सोने से ही घबराने लग जाते हैं. लंबे समय तक इस तरह बच्चे का परेशान रहना उनकी सेहत पर भी असर डालता है.

दरअसल इस कंडीशन को नाइट टेरर (Night Terror) या स्लीप टेरर (Sleep Terror) कहते हैं. इसमें बच्चे को डरावने और भयावह सपने आते हैं, जिससे वो बुरी तरह प्रभावित होता है. अगर आपके बच्चे के साथ भी यही समस्या है तो उसे डॉक्टर को जरूर दिखाएं. 

Loading...

क्या होता है नाइट टेरर
ज्यादातर 4 से 12 साल के बच्चों को ये समस्या होती है. इसमें बच्चा सोते हुए बहुत तेज डर जाता है. ये समस्या ऐसे बच्चों में ज्यादा होती है, जिनकी फैमिली में किसी को स्लीप वॉकिंग की समस्या रही हो. नाइट टेरर सोने के 2-3 घंटे बाद यानि गहरी नींद में जाने के बाद होता है. इसमें किसी डरावने सपने की तरह आपको महसूस होता है. इसमें बच्चे को काफी परेशानी होती है. वो डरा हुआ महसूस करता है. ऐसा सेंट्रल नर्वस सिस्टम में कुछ डिसटर्वेंस होने की वजह से होता है.

नाइट टेरर की वजह

Loading...
  • कोई डरावना या बुरा सपना देखना 
  • थकान या तनाव ज्यादा होना
  • Loading...
  • किसी दवाई का सेवन करना 
  • बुखार या शरीर का टेंपरेचर का बढ़ना
  • Loading...
  • मस्तिष्क के कार्यों में हस्तक्षेप 
  • रात को टॉयलेट आना

नाइट टेरर के लक्षण

Loading...
  • सोते हुए बहुत ज्यादा डर जाना
  • चीखना, चिल्लाना और रोना
  • Loading...
  • बहुत तेज सांस लेना
  • भय से पसीना आ जाना
  • Loading...
  • आक्रामक तरीके से पैर हाथ हिलाना
  • आंखें खुली होने पर भी डरते रहना
  • Loading...
  • नींद में चलना या भागना

बच्चे को नाइट टेरर से कैसे बचाएं

1- कभी भी बच्चे को एकदम झटके से न उठाएं- अगर बच्चा डर रहा है तो उसे एकदाम झटके से न डराएं. इससे बच्चे के दिमाग पर असर पड़ सकता है. नाइट टैरर की स्थिति में दिमाग अस्थिर स्थिति में होता है, ऐसे में झटके के उठाना परेशान कर सकता है.
 
2- बच्चे को प्यार से दिलासा दें- जब आप बच्चे को नाइट टेरर से जगाएं तो उसे प्यार से दिलासा दें. गले लगाकर उसको सहलाएं इससे बच्चे का डर दूर होगा और वो  सुरक्षित महसूस करेगा. बच्चे को फिर से सुलाने की कोशिश करें.

Loading...

3- हल्की लाइट जलाकर रखें- जिस कमरे में बच्चा सोता है उसमें थोड़ी रोशनी रखें. आप नाइट लैंप या स्लीपिंग लैंप का इस्तेमाल करें. 

4- शांत वातावरण और अच्छी कहानी सुनाएं- जिस कमरे में बच्चा सोतो हो उस जगह को शांत रखें. ज्यादा शोर होने पर भी बच्चे की नींद खराब होती है. बच्चे को सुलावे वक्त अच्छे विचार और अच्छी कहानी सुनाएं. इससे डरावने सपने कम आते हैं.
 
5- बच्चे को सोने से पहले टॉयलेट कराएं- अक्सर नींद में टॉयटेल आने पर बच्चे की नींद टूट जाती है. सोने से पहले हमेशा बच्चे को पेशाब करके सुलाएं. कई बार टॉयलेट भरा होने की वजह से भी नाइट टेरर का शिकार बनते हैं.

Loading...

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

ये भी पढ़ें: Coronavirus: कोरोना से रिकवरी के बाद दिमाग को इस तरह बनाएं स्वस्थ, खाने में शामिल करें ये 5 चीजें

Loading...

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Loading...

Loading...
Loading...

Share your feedback here